नव वर्ष की शुभकामनाए पर कविता

नव वर्ष की शुभकामनाए पर कविता

ज़िंदगी हो जाए सुहानी नव वर्ष कविता 2018

ज़िंदगी हो जाए सुहानी,
नये साल में बात हो दिल की ज़ुबानी,
नये साल में हर दिन हसीन और,
राते रोशन हो खुसीयों की हो रवानी,
नये साल में हर किसी के दिल में हो,
सबके लिए प्यार पूरी हो अधूरी कहानी,
नये साल में करते है हम ये दुआ,
सिर को झुकाकर मिले ग़रीब को रोटी और पानी,
नये साल मे पुराना साल हो रहा है,
सबसे दूर ख़त्म हो नफ़रटो की कहानी,
नये साल 2018 मे.



0 comments:

Post a Comment